डाक्टरों की कमी व सुविधाओं के आभव से जूझ रहा है स्वास्थ्य मंत्री के गढ़ का अस्पताल

image-1.png

नगर पंचायत अध्यक्ष के निरीक्षण में निकल कर आई कमियां

दिनेश बारी – लखनपुर – स्वास्थ्य मंत्री के विधानसभा क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लखनपुर में डॉक्टरों की कमी के कारण आए दिन मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है वही दिन गुरुवार को शाम को नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सावित्री साहू पताल का निरीक्षण करने पहुंची जहां अस्पताल में डॉक्टर नदारद पाए गए वहीं कुछ देर उपरांत बेरमो डॉक्टर पीएस केरकेट्टा पहुंच अस्पताल के डॉक्टरों के रिक्त पदों के बारे में जानकारी दी जहां डॉक्टर एमबीबीएस आदत है वही महेश 3 पद ही इस हॉस्पिटल में है जिसमें विकास खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर पीएस केरकेट्टा दूसरा एमबीबीएस डॉक्टर पीएस मार्को डॉ विवेक भटनागर वहीं 4 पद अभी भी रिक्त बताए गए हैं जिसमें मुख्य रुप से स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर की कमी से महिला मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।


छत्तीसगढ़ शासन के स्वास्थ्य मंत्री कांग्रेस के कद्दावर नेता टी एस सिंह देव के विधानसभा क्षेत्र लखनपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को देख ऐसा लग रहा है कि यहां मरीजों के जिंदगी के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है वहीं डॉक्टरों की कमी के कारण मुख्य रूप से दुर्घटनाओं में घायल 9 का प्राथमिक उपचार ना के बराबर उपचार होने के कारण कई मरीजों को तो जान गवाना पड़ रहा है जहां विगत कई वर्षों से समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की हालत बद से बदतर होती जा रही है जिसे सफेदपोश नेता या जनप्रतिनिधि ईश्वर ध्यान केंद्रित नहीं किया जा रहा है वही अंबिकापुर विधानसभा क्षेत्र के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव के बनने पर क्षेत्रवासियों में विश्वास जागृत हुई अब कहीं ना कहीं स्थानीय विधायक एवं स्वास्थ्य मंत्री के बनने से स्वास्थ्य क्षेत्र में व्यवस्थाएं गति से सुधार की जाएंगी परंतु दीया तले अंधेरा की कहावत सही साबित होता देख क्षेत्रवासियों में पुणे से निराशा झलक रही है वहीं लखनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 7 एमबीपीएस डॉक्टरों की चेतक वाली अस्पताल है परंतु यहां महेश बीएमओ मिलाकर इन्हीं एमबीबीएस डॉक्टरों की पोस्टिंग वर्तमान में किया गया है जिसमें मुख्य रुप से बीएमओ डॉ बीएस के पट्टा डॉक्टर पीएस मार्को डॉक्टर विवेक भटनागर अस्पताल में संचालित मरीजों को देखा जा रहा है वहीं इसी व्यक्तिगत एवं साक्षी कार्य में मीटिंग या न्यायालय मैं औकात जाने के उपरांत अस्पताल की स्थिति काफी दयनीय हो जाती है जिससे खासतौर पर इमरजेंसी केस को देखने के लिए मरीज मरीज के परिजनों को काफी मशक्कत करनी पड़ती है जिसके कारण हर दुर्घटनाएं इमरजेंसी केस में तत्काल रिफाई बनाई जाती है जिसे देखे प्रदर्शित होता है कि चिकित्सा के क्षेत्र में आज भी लखनपुर क्षेत्र में इसी प्रकार का कोई परिवर्तन देखने को नहीं आने की क्षेत्रवासियों में मांग किया है कि स्वास्थ्य मंत्री का विधानसभा क्षेत्र होने के नाते यहां सेटअप के आधार पर डॉक्टरों की पदस्थापना जिससे स्वास्थ की सेवा में अब ग्राम वासियों को बेहतर सुविधा मिल सके।


इतने बड़े विकासखंड लखनपुर होने के कारण समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक भी महिला डॉक्टर नहीं होना प्रदर्शित करता है कि महिलाओं के चार के लिए शासन कितनी गंभीर है और कितने सक्रिय है जिससे वर्तमान समय में लखनपुर में एक भी महिला चिकित्सक नहीं होने के कारण महिलाओं इलाज के लिए अंबिकापुर जाना पड़ता है जिससे कई परेशानियां का सामना करना पड़ता है वही गरीब तबके के महिलाओं को चार नहीं मिल पा रहा।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ऐसे बहुत सारे उपकरण लाखों के परिधि का धूल खा रहे हैं जिसका उपयोग नहीं हो रहा है शासन के लाखों रुपए का चपत लगाई जा रही है जहां बिना देखरेख के अभाव में भी बहुत सारे उपकरण खराब होना भी बताया जाए जैसे बकुम पंप ऑपरेशन करने वाली मशीन।
वही हॉस्पिटल की कुछ किनारे कलंकित दवाइयों का भी कार्टून काफी संख्या में दिखा गया है खासतौर से आयरन एवं अन्य दवाइयों का भी कार्टून देखा क्या जिसे राशिफल के द्वारा खराब पड़े तो भाइयों को समय पर उपयोग नहीं होने के कारण यह व्यवस्था देखी जा रही है।
बीते दिन गुरुवार को नगर पंचायत अध्यक्ष श्रीमती सावित्री साहू मंडल अध्यक्ष दिनेश साहू औचित्य सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लखनपुर के में पहुंचे निरीक्षण किया गया जिसमें डॉक्टरों की अनुपस्थिति देखी गई वहीं मरीजों की व्यवस्था पर भी दुरुस्त करने की सलाह दी और बीएमओ पी एस केरकेट्टा रात्रि में एवरेज इन सी जूती नहीं होने से नाराजगी व्यक्त की गई गई तथा मरीजों को किसी प्रकार का दिक्कत या परेशानी ना हो इसके लिए भी सुझाव एवं मार्गदर्शन दिए गए।
बी एम ओ पी एस केरकेट्टा ने बताया कि सेट अप के आधार पर आज भी लखनपुर में एमबीपीएस ट्रैक्टरों की रिक्त पद है जहां चेतक के आधार पर 72 पद हैं हां जिसमें महज 3 पद ही एमबीबीएस डॉक्टरों की पदस्थापना है वही चार पद अभी भी रिक्त पड़े हैं हम लोग के द्वारा सारे रिक्त पदों की जानकारी जिला में दे दी गई है और वही अस्पताल की व्यवस्था में विटप के आधार पर डॉक्टर पूरा होने के उपरांत ही समस्या समाप्त होगी अपने तरफ से 24 घंटा सेवा देने का कार्य किया जा रहा है ।

Share this Post On:
scroll to top