अजीत जोगी की कांग्रेस में हो सकती है वापसी ,पत्नी रेणु निभा सकती अहम भूमिका

Screenshot_9.png

रायपुर । विधानसभा चुनाव में अपेक्षित सीटें और लोकसभा चुनाव लड़ने का मौका नहीं मिलने के बाद अब जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ सुप्रीमो अजीत जोगी कांग्रेस में वापसी की लॉबिंग कर रहे हैं। राजनीतिक गलियारे में यह चर्चा फिर से शुरू हो गई है, क्योंकि पिछले कई दिनों से जोगी परिवार के साथ दिल्ली में हैं।

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के विश्वस्त सूत्रों की मानें तो जोगी कांग्रेस के कुछ आला-नेताओं से बात भी कर चुके हैं। चर्चा का दौरा जारी है, इसलिए जोगी सोमवार को अपने जन्मदिन पर भी रायपुर नहीं आएंगे।

जोगी ने जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जकांछ) से सभी 90 विधानसभा सीटों पर प्रत्याशी उतारने की बात कहते रहे, लेकिन जैसे ही चुनाव पास आया, उन्होंने बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के साथ गठबंधन कर लिया था। जकांछ 55 सीटों पर चुनाव लड़ी। केवल पांच सीटों पर जकांछ जीत पाई। इसके बाद जोगी ने बसपा के साथ गठबंधन करके लोकसभा चुनाव लड़ने का मन बना लिया था। जोगी ने अपने लिए सीट भी तय कर ली थी, लेकिन बसपा सुप्रीमो मायावती ने जकांछ के लिए एक भी सीट नहीं छोड़ी। कहा जा रहा है कि केवल पांच सीट पर रहकर विपक्ष की राजनीति करना जकांछ के लिए मुश्किल हो गया है। ऐसी स्थिति में जोगी चाह रहे हैं कि उनकी फिर से कांग्रेस में वापसी हो जाए।

पत्नी रेणु बन सकती हैं माध्यम

जकांछ सुप्रीमो की पत्नी डॉ. रेणु जोगी को विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया, तो जकांछ के टिकट से चुनाव लड़कर विधायक बन गईं। यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी से डॉ. रेणु जोगी का संबंध आज भी अच्छा है। जोगी और कांग्रेस हाईकमान के बीच चर्चा में रेणु जोगी माध्यम होंगी।

संकेत दे रहा जकांछ नेताओं का कांग्रेस में प्रवेश

जकांछ के टिकट से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले सात नेता ऐन लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस में आ चुके हैं। कुछ ने कांग्रेस में प्रवेश किए बिना लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए काम किया है। इतना ही नहीं, जकांछ के कई प्रवक्ताओं और दूसरे पदाधिकारियों ने भी कांग्रेस में प्रवेश कर लिया है। जोगी इस हताशा से भी उबर नहीं पा रहे हैं।

कांग्रेस का बड़ा खेमा नहीं चाहेगा जोगी की वापसी


टीएस सिंहदेव

कांग्रेस नेताओं-कार्यकर्ताओं का बड़ा खेमा नहीं चाहेगा कि जोगी की कांग्रेस में वापसी हो। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तो अंतागढ़ टेपकांड में जोगी और उनके पुत्र अमित जोगी की जांच के लिए एसआइटी का गठन कर दिया है। दोनों के खिलाफ एफआइआर भी हो चुकी है। मंत्री टीएस सिंहदेव पहले ही कह चुके हैं कि जोगी कांग्रेस में वापस आए, तो वे राजनीति छोड़ देंगे।

साभार – जे एन एन

Share this Post On:
scroll to top