IAS ने मोदी के काफिले की ली तलाशी, लिखा था- सही काम पर पछताओ मत

ias.jpg

ओडिशा के सम्बलपुर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हेलीकॉप्टर की कथित रूप से जांच करने बाद आईएएस अधिकारी मोहम्मद मोहसिन को चुनाव आयोग ने सस्पेंड कर दिया. चुनाव आयोग के मुताबिक, कर्नाटक कैडर के अधिकारी मोहम्मद मोहसिन ने एसपीजी सुरक्षा से जुड़े निर्वाचन आयोग के निर्देश का पालन नहीं किया.
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सम्बलपुर में प्रधानमंत्री के हेलीकॉप्टर की जांच करना निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के तहत नहीं था. एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को ऐसी जांच से छूट प्राप्त होती है. जिला कलेक्टर और पुलिस महानिदेशक की रिपोर्ट के आधार पर मंगलवार की घटना के एक दिन बाद कार्रवाई की गई.
आईएएस अफसर मोहम्मद मोहसिन सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं. उनके सोशल मीडिया प्रोफाइल से पता चलता है कि वे नेताओं पर सवाल उठाते रहे हैं और लोगों को जागरुक करने के लिए भी पोस्ट डालते रहे हैं.
दो अप्रैल को किए गए पोस्ट में उन्होंने लिखा था- ”दुःख-दर्द धर्म और मज़हब नहीं देखते हैं. तो फिर आज कुछ नेताओं को हर चीज में केवल धर्म और मजहब ही क्यूं दिखाई दे रहे हैं?” उन्होंने महशर आफ़रीदी का शेर भी शेयर किया- ‘ये कौन शख्स है, इसको भरम में उलझा दो. हुकूक मांग रहा है, धरम में उलझा दो.’
मोहम्मद मोहसिन ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा था- सही काम करने या सही इंसान होने पर कभी मत पछताओ. सभी तारीफ नहीं करेंगे, लेकिन सही लोग करेंगे.


एक अन्य सोशल मीडिया पोस्ट में उन्होंने लिखा था- एक गुजारिश, प्लीज आप सब किसी भी नेता के लिए, अपशब्द या किसी भी नेता की फोटोशॉप वाली तस्वीर सोशल मीडिया पर कतई शेयर न करें. वैचारिक आलोचना लोकतंत्र का हिस्सा है लेकिन व्यक्तिगत टिप्पणियों से बचें, ऐसा करने से आप गिरफ्तार भी किए जा सकते हैं. आपकी नादानी आपके परिवार के लिए सही नहीं.
मोहसिन साल 1996 बैच के कर्नाटक कैडर के आईएएस अफसर हैं, जिन्हें जनरल ऑब्जर्वर के तौर पर नियुक्त किया गया था. बता दें कि भारत निर्वाचन आयोग सभी संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में सामान्य पर्यवेक्षकों की नियुक्ति करता है ताकि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव हो सकें.
मोहम्मद मोहसिन पटना के रहने वाले हैं और कर्नाटक सरकार में सचिव (सोशल वेलफेयर विभाग) हैं. वे कर्नाटक कैडर से आईएएस बने हैं. उन्होंने पटना यूनिवर्सिटी से एम कॉम की पढ़ाई की है और साल 1994 में वो यूपीएससी सिविल सर्विसेज की पढ़ाई करने दिल्ली आए थे.
साल 1969 में जन्मे मोहम्मद मोहसिन ने उर्दू स्टडीज के साथ अपनी पढ़ाई की थी. उनकी लिंक्डइन प्रोफाइल के अनुसार वो कर्नाटक सरकार के शिक्षा विभाग और अन्य विभागों में अधिकारी रह चुके हैं.

साभार – आज तक

Share this Post On:
  
scroll to top