जनपद के बाद जिला पंचायत में भी कांग्रेस ने अपना दबदबा बरकरार रखा

140.jpg

जिला पंचायत अध्यक्ष राजकुमारी मराबी 3 वोट से व उपाध्यक्ष नरेश राजवाड़े निर्विरोध चुने गए

सूरजपुृर। जनपद के बाद जिला पंचायत में भी कांग्रेस ने अपना दबदबा बरकरार रखा है। यहां जिला पंचायत अध्यक्ष राजकुमारी मराबी व उपाध्यक्ष नरेश राजवाड़े चुने गए हैं। पार्टी ने दोनों के नाम लिफाफे में बंद कर यहां प्रेषित कर दिया था। हांलाकि जिला पंचायत में कांग्रेस पूर्ण बहुमत में थी एैसे में कोई किन्तु परन्तु नही था। लेकिन अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद के लिए एक से अधिक दावेदार होने के कारण पार्टी को थोड़ी जदद्ोजहद करनी पड़ी। कांग्रेस कमेटी नें प्रतापपुर क्षेत्र से दूसरी बार जिला पंचायत सदस्य चूनकर आई राजकुमारी मरावीं को अध्यक्ष पद का उम्मीदवार घोशित किया. इधर दूसरी ओर भाजपा की ओर से पूर्व गृहमंत्री रामसेवक पैकरा के पूत्र लवकेश पैकरा ने भी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया। श्री पैकरा को भरोसा था कि कांग्रेस के आपसी कलह का लाभ उन्हें मिल सकता है लेकिन एैसा हो नही सका और कांग्रेस ने एकजूटता का प्रदर्षन करते हुए जिला पंचायत पर कब्जा जमा लिया है. कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार राजकुमारी मरावी को 09 मत मिलें जबकि भाजपा समर्थित लवकेश पैकरा को 06 मत ही मिला जिससें राजकुमारी मरावी अध्यक्ष चूनी गई है। उपाध्यक्ष पद पर पहलें भाजपा ने दावेदारी का मन तो बनाया लेकिन अध्यक्ष के परिणाम के बाद इस पद को लेकर भाजपा बैकफूट पर आ गई और भाजपा के अजय श्याम ने अपनी दावेदारी वापस ले ली जिससे कांग्रेस समर्थित नरेश राजवाडे़ निर्विरोध उपाध्यक्ष चून लिए गए है. इस तरह से जिला पंचायत में अध्यक्ष उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस ने अपना परचम लहराया है।


भाजपा की उम्मीदों पर फिरा पानी
नगरपालिका में कांग्रेस के पूर्ण बहुमत के बाद भी जिस ढंग से भाजपा ने उपाध्यक्ष पद हासिल कर लिया था उससे उत्साहित भाजपा को यह भरोसा था कि जिला पंचायत में भी क्रास वोट के सहारें वह कम से कम 01 पद हासिल करनें मे सफल रहेगीं लेकिन नपा चूनाव के बाद सचेत हुई कांग्रेस इस चूनाव के दौरान पूरी तरह चौकन्नी थी. और वह कोई मौका नही देना चाहती थी यही वजह था कि वह अपने पूरे सदस्यों को पिछलें कई दिनों से भूमिगत रखें हुए थी. दूसरी ओर बताया जाता है कि कांग्रेस में अध्यक्ष उपाध्यक्ष पद को लेकर खींचातान की स्थिती थी. अध्यक्ष के लिए विधायक खेलसाय की पूत्रवधू उषा सिंह भी दावेदार थी और इसे लेकर लाबिंग भी किया जा रहा था. लेकिन अंतिम समय में खबर यह है कि नपा की तरह कांग्रेस ने वोटिंग कराया जिसमें राजकुमारी मरावी के भारी पड़नें के कारण उन्हें पार्टी नें अपना पत्याषी घोषित कर दिया. इस खीचातान के बाद भी कांग्रेस पूरी तरह एक जुट रही जिसकें परिणाम स्वरूप् जिला पंचायत पर दोनो पद हासिल हो सका।


मॉ के बाद बेटा को भी हराया
दिलचस्प यह भी है कि राजकुमारी मरावीं जिला पंचायत की वह सदस्य है जो वर्श 2015 मे हुए चूनाव में तब के गृहमंत्री रहें रामसेवक पैकरा की पत्नी को परास्त कर चुकी है और अब इस चूनाव में अध्यक्ष पद पर रामसेवक पैकरा के पूत्र लवकेश पैकरा को परास्त कर अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुॅची है।

इनकी उपस्थिति में हुआ चुनाव
जिला पंचायत में शुक्रवार को मुख्य कार्यपालन अधिकारी अश्वनी देवांगन की उपस्थिति में कड़ी सुरक्षा के बीच अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के पद का चुनाव कराया गया। पीठासीन अधिकारी अपर कलेक्टर एस0एन0 मोटवानी, सहायक पीठसीन अधिकारी अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत पुष्पेन्द्र शर्मा, सहायक पीठासीन अधिकारी एसडीएम शिवकुमार बनर्जी आदि उपस्थित थे।

कोठीघर पहुॅचे विजयी उम्मीद्वार
आज का यह समूचा चुनाव सफी अहमद की देखरेख में संपन्न हुआ। चुनाव के बाद अध्यक्ष, उपाध्यक्ष समेत विधायक खेलसाय सिंह, पारस राजवाड़े, प्रहलाद राय अग्रवाल, सुभाष गोयल, अखिलेश सिंह, के.के.अग्रवाल, सुनील अग्रवाल, शिवभजन सिंह, अश्वनी सिंह, संजय डोसी, राजू सिंह सहित अन्य कांग्रेसी अम्बिकापुर में पंचायत मंत्री टी0एस0 सिंहदेव के निवास पर जाकर उनसे आर्शीवाद व मार्गदर्शन लिया।

Share this Post On:
scroll to top