सिख समाज ने रैली निकाल ननकाणा साहेब पर हुए हमले के खिलाफ जताया विरोध

90b73262-6a6a-4a3a-9fcb-a1b80e46cb48.jpg

अंबिकापुर। पाकिस्तान के ननकाणा साहेब गुरूद्वारा में असमाजिक गतिविधियां व पत्थरबाजी के खिलाफ मंगलवार को सिख समाज द्वारा गुरूद्वारा श्री गुरू सिंह सभा से एक रैली निकालकर विरोध प्रदर्शन किया। रैली में हिन्दु , मुस्लिम व सिंधी समाज के साथ ही भाजपा व कांग्रेस के वरिष्ठ पदाधिकारी भी शामिल हुए। रैली के बाद सभी ने कलक्टोरेट पहुंच राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी सौंपा।


श्री गुरु सिंह सभा के अध्यक्ष नवराज सिंह बाबरा ने कहा कि पिछले दिनों पाकिस्तान में स्थित श्री गुरूनानक देव जी के प्रकाश स्थान, गुरूद्वारा श्री ननकाणा साहेब में पत्थरबाजी कर हमला की गई थी। इससे पूरे विश्व में संगत के साथ ही सम्पूर्ण देशवासियों में रोष व्याप्त है। इसे लेकर अंबिकापुर का सिख समाज भी आक्रोशित है और मंगलवार को गुरुद्वारा से एक विशाल रैली विरोध सवरूप निकाला गया है। रैली गुरूद्वारा से शुरू होकर महामाया चौक होते हुए देवीगंज मार्ग से घड़ी चौक पहुंच सम्पन्न हुई। घड़ी चौक पर एक आमसभा का आयोजन किया गया । इसमें विभिन्न समाज के लोगों ने अपनी-अपनी राय व्यक्त की। इस दौरान मुस्लिम समाज के मौलाना नूर आलम ने कहा कि इस्लाम कभी भी किसी समाज के धार्मिक स्थल पर हमला करने की अनुमति नहीं देता है। यह इस्लाम के सिद्धांतों के खिलाफ है। इस्लाम में किसी बच्चे व निर्दोष पर हमला करने की भी अनुमति भी नहीं दी जाती है। यह हमला मानवता के खिलाफ है। कांग्रेस जिलाध्यक्ष बालकृष्ण पाठक ने कहा कि यह हमला शांति का संदेश देने वाले गुरुनानक देव जी के प्रकाश स्थान पर किया गया है। इससे पूरा देश आहत है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को इसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। भाजपा प्रदेश मंत्री अनुराग सिंहदेव ने कहा कि यह हमला सिख समाज के ननकाणा साहेब पर नहीं बल्कि हम सब के खिलाफ किया गया है। उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को चेतावनी देते हुए कहा कि ननकाणा साहेब जैसे पवित्र, पावन स्थान की मर्यादा अक्षुण्य रखने हेतु हर संभव प्रयास करें, नहीं तो देश की जनता के साथ भारत सरकार को भी जो कार्रवाई की जानी है वह करेगी। आलोक दुबे ने कहा कि यह देश की संस्कृति पर हमला है।पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आ जाए, नहीं तो उसे सबक सिखाने के लिए देश का हर कोई तैयार है। इस दौरान महेन्द्र सिंह टूटेजा, राजू बाबरा, परमवीर सिंह बाबरा, इन्द्रजीत सिंह धंजल, निर्मल सिंह धंजल, परमजीत सिंह, पपिन्दर सिंह, रिंकू छाबड़ा, नरेन्द्र सिंह टूटेजा, रिंकू सिंह, रिंकू वर्मा, मनोज कंसारी, वीर सोनी, शानू कश्यप सहित अन्य लोग उपस्थित थे। आमसभा के बाद सिक्ख समाज सहित अन्य समाज के लोगों ने कलक्टोरेट पहुंचकर कलक्टर डॉ. सारांश मित्तर से मुलाकात कर उन्हें राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा।

Share this Post On:
scroll to top