पति-पत्नी का झगड़ा शांत करने गए युवक की बेदम पिटाई, अस्पताल में मौत

frontline-mono.jpg

दरिमा थाना क्षेत्र के ग्राम अड़ची की घटना, बीच बचाव करने पर पति ने युवक की कर दी थी पिटाई
अंबिकापुर. पति-पत्नी की लड़ाई में बीच बचाव करना एक युवक को महंगा पड़ा। युवक को इसकी कीमत जान देकर चुकानी पड़ी। घटना दरिमा थाना क्षेत्र के ग्राम अड़ची गांव की है। झगड़ा शांत कराने के दौरान महिला के पति ने युवक की बेदम पिटाई कर दी। इससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया। उसे इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां इलाज के दौरान शुक्रवार की देर रात उसकी मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार दरिमा थाना क्षेत्र के ग्राम अड़ची निवासी ३६ वर्षीय रूपदेव पोर्ते पिता संत राम पोर्ते मजदूरी का काम करता था। वह २७ नवंबर को गांव के ही सुजीत रजवाड़े के घर मजदूरी करने गया था। वह सुजीत के घर ही खाना खा कर रात ८ बजे घर लौट रहा था। रास्ते में पारस रजवाड़े की पुत्री घर के दरवाजे पर खड़ी थी। वह बोली कि मेरे पिता मां को मार रहे हैं। मेरी मां को बचा लीजिए। इस पर रूपदेव आंगन में लड़ रहे पति-पत्नी को शांत कराने लगा। यह बात पारस को अच्छी नहीं लगी और उल्टा उसने रुपदेव की लात-मुक्के व डंडे से बेदम पिटाई कर दी।
पारस की पत्नी ने दी जानकारी
पारस द्वारा पिटाई करने से रूपदेव जख्मी हो गया। इस दौरान पारस की पत्नी वहां से भाग कर सुजीत के घर पहुंची और घटना की जानकारी दी। सुजीत पारस के घर पहुंचा और रूपदेव को वहां से उठाकर उसके घर पहुंचा दिया। इसके बाद वह रात में सो गया। सुबह रूपदेव की पत्नी जब उसे जगाने गई तो वह बेहोश था। उसे इलाज के लिए दरिमा अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां चिकित्सकों ने उसे बेहतर इलाज के लिए अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल रेफर कर दिया। यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

Share this Post On:
scroll to top