ऑटो में शव लेकर परिजन घंटों करते रहे पीएम का इंतजार डॉक्टर पहुंचने में लग गया 4 घंटा, जिम्मेदार कौन ?

413
ARTICLE TOP AD


कुसमी । बलरामपुर जिला के कुसमी नगर पंचायत अंतर्गत वार्ड क्रमांक 14 दर्रीपारा निवासी धर्मेश केरकेट्टा पिता प्रेम केरकेट्टा 32 वर्षीय युवक की सड़क हादसे में मौत हो गईं. मौत के बाद परिजनों को पोस्टमार्टम के लिये कई घंटे इंतजार करना पड़ा. इसकी सूचना जब स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी सीएमएचओ बलरामपुर तथा ज्वाईंट डायरेक्टर अम्बिकापुर को दी गई. जिसके बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुसमी से डॉक्टर की टीम ने पीएम स्थल पहुचकर शव का पोस्टमार्टम किया.
उल्लेखनीय हैं कि कुसमी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कई वर्षों से बेहतर स्वास्थ्य के लिए उपेक्षित रहा हैं. यहाँ पर लगातार अव्यवस्था को लेकर कई मामलें सामने आते रहे हैं. बुधवार को थाना क्षेत्र कुसमी के दर्रीपारा में करीब दो बजे एक मोटरसाइकिल के अनियंत्रित हो जाने के कारण चालक धर्मेद्र केरकेट्टा की मौके पर मौत हो गईं. तथा अन्य को मामुली चोट लगने की जानकारी बताई गई. इसकी सूचना जैसे ही थाना कुसमी को दी गई. थाना प्रभारी प्रकाश राठौर ने तत्काल दुर्घटना स्थल पहुच कर जानकारी लिया. तथा पंचनामा कार्यवाही कर पोस्टमार्टम हेतु शव को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भेजा गया.
देर शाम होने के कारण शव का पोस्टमार्टम नही किया गया. अगले दिन परिजन टेम्पू वाहन में शव को लेकर मुक्तिधाम स्थित पोस्टमार्टम गृह में पहुँचे. यहां पर करीब 8 बजे सुबह परिजनों व पड़ोसियों ने थाना स्टॉप की उपस्थिति में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पोस्टमार्टम के लिये डॉक्टर भेजने की सूचना कई बार फोन पर व अन्य माध्यमों से दी गईं. जब करीब तीन घंटे बाद जब इसकी सुचना बलरामपुर सीएमएचओ बसंत सिंह को दी गई. जिसके करीब एक घण्टे के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से एक डॉक्टर को आपातकालीन स्थिति में भेज कर पोस्टमार्टम कराया गया.
जिम्मेदार कौन ?
आँखों के सामने परिजन शव रखकर घंटो डॉक्टर का इंतजार करते रहें. डबगति आँखों तले घंटों तक परिजनों को डॉक्टर का इंतजार करना पड़ा. नगरवासियों में इस अव्यवस्था को लेकर सवाल उत्पन्न हैं कि आखिर इस तरह की लचर व्यवस्था का जिम्मेदार कौन हैं ? हालांकि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कुसमी में हाल ही में डिलीवरी के दौरान महिला की मौत सहित अन्य मामलों में पीड़ित पक्षों का कई आवेदन विभाग में जमा हैं. जिन्हें आज भी न्याय नहीं मिल पाया हैं. पीड़ितों ने आला अधिकारियों से न्याय की गुहार मीडिया के माध्यम से लगाया हैं.
किसने क्या कहा…
इस मामलें में जब सामुदायिक स्वास्थ्य विभाग कुसमी के प्रभारी खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ अनुज टोप्पो से बात की गईं तो उन्होंने कहा 10 बजे मुझे जानकारी मिली थीं. मैं निज कार्य से रायपुर में हूँ. डॉ सतीश सुबह के शिफ्ट में ड्यूटी पर हैं. हमारे स्टाफ में एक मैडम की सर्जरी चल रहीं हैं. रात के शिफ्ट में डॉ राकेश ड्यूटी पर होंगे. अस्पताल में कोई इमरजेंसी केस आ जाता है ऐसी स्थिति में डॉक्टर सतीश को अस्पताल में रहना जरूरी था. बीते रात में ड्यूटी पर डॉक्टर सोहनलाल थे. जिन्हें पीएम के लिए भेज दिया गया.
सीएमएचओ बलरामपुर बसंत सिंह को पूरी मामलें की जानकारी दी गई जिन्होंने कहा कि मैं मीटिंग पर था तुरंत फोन कर दे रहा हूं.
वही ज्वाइंट डायरेक्टर अंबिकापुर श्री सिसौदिया ने पूरे मामले को सुनकर सीएमएचओ बलरामपुर बसंत सिंह को अवगत कराकर जांच कराने कहा हैं।