मैनपाट महोत्सव – कैलाश खेर की सूफियाना अन्दाज खूब भाया दर्शको को

137
ARTICLE TOP AD


छत्तीसगढ़ के सम्मान में दर्शकों ने जलाई मोबाईल का टॉर्च

अम्बिकापुर – मैनपाट के रोपाखार जलाशय के पास आयोजित तीन दिवसीय मैनपाट महोत्सव का रंगारंग समापन 14 फरवरी को हो गया। सांध्यकालीन सांस्कृतिक कार्यक्रम में बॉलीवुड गायक पद्मश्री कैलाश खेर ने अपने चिर-परिचित अंदाज में सूफी गानों की झड़ी लगा दी। उनको सुनने और देखने डोम के अंदर और बाहर दर्शकों की जबरदस्त मौजूदगी को सूफियाना  अंदाज के गानो ने खूब भाया। कार्यक्रम के अंतिम पड़ाव के दौरान खेर ने छत्तीसगढ़ बदल रहा है, विकास कर रहा है कहते हुए छतीसगढ़ के सम्मान में मोबाईल का टॉर्च ऑन करने की अपील की तो डोम के अंदर हजारों मोबाईल जगमगा उठे।


कार्यक्रम के दौरान कैलाश खेर ने करीब 2 घंटे तक अपनी हिट गीतों की प्रस्तुति दी। ’पिया के रंगदीनी ओढली’ और ‘मैं तो तेरे प्यार में दीवाना हो गया’ गानों में दर्शकों ने खूब तालियों बजाई वही ’तेरे नाम से जी लूँ तेरे नाम से मार जाऊं’ और ’अल्लाह के बंदे’ झूमने लगे जबकि ’ये दुनिया उटपटांगा’ में दर्शक नाचने लगे।देर रात्रि तक चले सांस्कृतिक कार्यक्रम में पद्मश्री अनुज शर्मा के छतीसगढ़ी गानो, भोजपुरी सुपर स्टार काजल राघवान के डांस, लाईड एण्ड साउड की प्रस्तुति, शिव झांकी, शौल सेकर्स डांस ग्रुप कलकत्ता तथा गायक घनश्याम महानंद के द्वारा मनमोहक प्रस्तुतियो  ने दर्शकों का मन मोह लिया।


इसके साथ ही समापन अवसर पर दोपहर 1 से 3 बजे तक प्रियांशु मिश्रा बतौली, अंतरा मिश्रा व अनन्या मिश्रा सीतापुर, कुमारी अंशिका सिन्हा अम्बिकापुर, दीपिका भगत, प्रियांशु मिश्रा बतौली एवं ओम अग्रहरि बैकुंठपुर, बबिता विश्वास अम्बिकापुर द्वारा गायन, कृष्णा यादव मैनपाट द्वारा भोजपुरी गीत, दीपक एवं साथी बैंड सीतापुर द्वारा गीत, सुश्री ऋचा शर्मा द्वारा कत्थक, महादेव खम्हारी की प्रस्तुति, मनप्रीप सिंह एवं साथियों का कार्यक्रम, अपरान्ह 3 बजे से संध्या 5 बजे तक आचार्य दिग्विजय सिंह तोमर एवं कविगण द्वारा कविता पाठ, कुमारी सताक्षी वर्मा की प्रस्तुति, नासीर एवं निन्दर की सुफियाना ग्रुप तथा ओजस्वी साहू द्वारा गीत प्रस्तुत किया गया ।
उल्लेखनीय है कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2012 से मैनपाट महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। इस वर्ष 12 से 14 फरवरी तक तीन दिवसीय महोत्सव का आयोजन मैनपाट महोत्सव आयोजन समिति मैनपाट द्वारा सफल आयोजन किया गया।