उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ्य दे हुआ छठ का समापन, रामानुजगंज में अनुपम छटा छठ की देखने को मिली..

ARTICLE TOP AD

रामानुजगंज(विकाश कुमार केशरी)- लोक आस्था के महापर्व छठ के चार दिवसीय आयोजन का आज समापन श्रद्धालुओं के द्वारा उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ्य दे किया गया। उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ्य देने के लिए शिव मंदिर घाट से राम मंदिर घाट तक श्रद्धालुओं से पूरा कन्हर नदी श्रद्धालुओं से पट गया था। कन्हर नदी के राम मंदिर घाट शिव मंदिर घाट सहित पांच घाटों पर श्रद्धालुओं के द्वारा छठ पर्व किया गया।

           गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ एवं झारखंड के सीमा पर स्थित रामानुजगंज में दशकों को से छठ पर्व की अद्भुत छटा देखने को मिलती है यहां के छठ पर्व को देखने के लिए एवं व्रत करने के लिए छत्तीसगढ़ के विभिन्न शहरों से एवं दूसरे प्रदेशों से भी संख्या में लोग यहां आते हैं। छठ पर्व की तैयारी में यहां सिर्फ छठ पूजन समितियां नगर पंचायत ही नहीं लगता वरण पूरा नगर छठ पूजा की तैयारी में एवं व्रतियों के स्वागत में रहता है। हर कोई अपने सामर्थ्य के अनुसार व्रतियों की मदद करने के लिए तत्पर रहता है। छठ पर्व को लेकर पूरे शहर का माहौल भक्तिमय हो जाता है हर गली मोहल्ले में छठ के गीतों से गुलजार रहता ही है वही साफ सफाई भी की जाती है। आज उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ देने के लिए श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा कन्हर नदी से शिव मंदिर घाट से राम मंदिर घाट तक जब श्रद्धालु अर्घ देने के लिए उतरे अद्भुत नजारा देखने को मिला। नगर पंचायत अध्यक्ष रमन अग्रवाल  पार्षदों के साथ सुबह भी छठ घाट पहुंच मत्था टेका। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता शिवनाथ केसरवानी सहित अन्य जनप्रतिनिधि भी छठ पर्व में सम्मिलित हुए। राम मंदिर घाट में छठ पूजन से जुड़ा समिति नवयुवक दुर्गा पूजा संघ पीपल चौक के आलोक गुप्ता,विक्की गुप्ता,अमित जायसवाल, जितेश केसरी सहित समिति के अन्य लोग सक्रिय रहे।

सात घोड़ों पर सवार सूर्य भगवान की मूर्ति रही आकर्षण का केंद्र- शिव मंदिर घाट में दबगर समाज के द्वारा सात घोड़ों पर सवार सूर्य भगवान की  मूर्ति स्थापित की गई थी जिसका विधि विधान से पूजा अर्चना कर आज सूर्योदय के बाद मूर्ति का विसर्जन धूमधाम से किया गया। आयोजन में मुकेश दास, अनुज दास सहित समिति के अन्य लोग सक्रिय रहे।

सैकड़ों श्रद्धालु नदी में ही रुके- कन्हर नदी के 5 घाटों पर श्रद्धालुओं के द्वारा छठ पूजन किया। सैकड़ों श्रद्धालु कन्हर नदी में ही अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के बाद रुके वही आज उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद ही घर वापस गए।

सैकड़ों लोगों ने भीक्षाटन कर किया व्रत- छठ पर्व में भीक्षाटन कर पर्व करने का विशेष महत्व है। सैकड़ों लोगों ने भिक्षाटन कर व्रत किया। वही उद्दीप्तमान सूर्य को अर्घ्य देने के बाद प्रसाद मांग कर ग्रहण करने का भी विशेष महत्व माना जाता है जिस कारण व्रतियों के पास प्रसाद मांगने वालों की अर्घ देने के बाद भीड़ उमड़ पड़ी।

महिला जनप्रतिनिधियों ने भी किया व्रत- पूर्व जनपद अध्यक्ष शीला सिंह सहित अन्य महिला जनप्रतिनिधियों ने भी छठ व्रत किया। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में कई महिला सरपंचों ने भी छठ व्रत किया। छठ व्रत को लेकर महिलाओं का उत्साह चरम पर दिखा।

ग्रामीण क्षेत्रों में भी रहा छठ पर्व का धूम- रामानुजगंज के साथ-साथ आस-पास के गांव में भी धूमधाम से छठ मनाया गया ग्राम विजयनगर, मितगई, त्रिकुंडा, पलगी धमनी सहित अन्य ग्राम पंचायतों में छठ पर्व धूमधाम से मनाया गया। वहीं समाजसेवी संतोष यादव के द्वारा ग्राम त्रिकुंडा सहित अन्य ग्रामों में प्रसाद का वितरण किया गया।