सूर्य उपासना का महापर्व छठ कुसमी में धूम-धाम से संपन्न, जगह – जगह सूर्य देव को अर्ध्य,जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से छठ – घाट निर्माण पर पहल नहीं, अव्यवस्था से नगरवासी चिंतित

ARTICLE TOP AD


अम्बिकेश गुप्ता
कुसमी। सूर्य भगवान की उपासना का महापर्व छठ कठिन परिश्रम कर पुत्र की प्राप्ति रक्षा समृद्धि एवं परिवार की मंगलकामना के लिए किया जाता है. इस पर्व को करना कठिन माना जाता है. लंबे समय तक पारन को त्याग कर तीन दिनों तक व्रत रखकर शुक्रवार को अस्त होने वाले सूर्य देव को अर्घ्य देकर पुनः शनिवार की सुबह कुसमी के सभी व्रतधारियों ने अर्ध्य देकर छठ पूजा संपन्न किया।

कुसमी के सामरी रोड़ स्थित बलारी नदी, ऊपर पारा कुसमी के राजा बांध एवं करौंधा रोड़ स्थित बेनगंगा नदी सहित इस क्षेत्र के ग्रामीण अंचल में छठ पर्व पर सूर्य देव को अर्ध्य दिया गया. पूजा स्थलों में व्रत धारियों ने नदी किनारे ही रात गुजार कर सुबह के सूर्य देव को अर्घ्य देने प्रतिष्ठा किया. पूजा स्थलों में प्रशासन द्वारा टेंट व बिजली की व्यवस्था की गई थी. इस अवसर पर व्रत धारियों सहित परिवारजन बड़ी संख्या में गाजे-बाजे के साथ छठ घाट पहुंचकर विधि-विधान से सूर्य देव की आराधना के इस पर्व में शामिल होकर अरग ग्रहण किया.

जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से छठ – घाट निर्माण पर पहल नहीं, अव्यवस्था से नगरवासी चिंतित

कुसमी के सामरी रोड़ पर बलारी नदी छट घाट में अव्यवस्था का आलम सदियों से यथावत हैं. जबकि यहाँ पर कुसमी नगर के सर्वाधिक व्रतधारियों सहित श्रद्धालुओं का पूजा में सम्मिलित होना हर साल रहता हैं. इसके साथ ही कांग्रेस – भाजपा सहित अन्य दलों के जनप्रतिनिधियों का भी छठ घाट में हर साल आना होता हैं, सामरी विधानसभा के पद पर आसीन विधायक भी छठ घाट पहुंचकर व्रत धारियों को नारियल भेंट कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं. नगर के युवा व बुजुर्गों के अनुसार कुसमी में सभी पार्टियों के अधिकांश कार्यकर्ता व जनप्रतिनिधि अपनी दखल जिला से लेकर प्रदेश सहित केंद्र में बताते हैं बावजूद इसके छठ घाट निर्माण की पहल पर मजबूती से ध्यान नहीं दिया जाना कुसमी नगर वासियों के लिए चिंता का विषय बना हुआ हैं। कुसमी नगर वासियों ने छत्तीसगढ़ समाचार के माध्यम से अपनी बात रखी हैं की वर्तमान विधायक, सांसद सहित मुख्यमंत्री को कुसमी के सामरी रोड स्थित नदी में छठ घाट निर्माण के लिए ठोस पहल करना चाहिए.
छठ पूजा के पहले प्रशासन द्वारा साफ – सफाई कर किया जाता हैं खानापूर्ति

छठ पूजा के पूर्व नगरीय प्रशासन नगर पंचायत कुसमी के द्वारा जगह – जगह साफ सफाई की जाती हैं. सामरी रोड पर स्थित बलारी नदी छठ – घाट में भी पूजा के 2 दिन पूर्व साफ – सफाई करा कर प्रशासान द्वारा अस्थाई आने – जाने के लिए पुल नुमा रास्ता बना दिया जाता हैं. इस रास्ते से गुजरने के लिए कठिनाइयों का सामना नगरवासियों सहित बच्चो को करनी पड़ती हैं. यहां पर नदी किनारे दलदल नुमा जमीन पर अव्यवस्थाओं के बीच श्रद्धालुओं का तांंता लगता है। न तो यहां पर सीढ़ी नुमा सीमेंट कांक्रीट का निर्माण है. न तो जमीन लेबल कर स्लैब का निर्माण। इस ओर ध्यान आकर्षित करने की आवश्यकता नगरवाशियों ने छत्तीसगढ़ से खास बात – चीत के दौरान जताई हैं।