छठ पर्व पर कन्हर नदी में श्रद्धालुओं का उमड़ा जनसैलाब, विधायक,नगर पंचायत अध्यक्ष ने श्रद्धालुओं को बांटे प्रसाद, माक्स का भी किया वितरण

ARTICLE TOP AD

रामानुजगंज(विकाश कुमार केशरी)- सूर्योपासना के महापर्व छठ के आज तीसरे दिन अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के लिए कन्हर नदी में श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा। विधायक बृहस्पत सिंह एवं नगर पंचायत अध्यक्ष रमन अग्रवाल सहित नगर के विभिन्न समाजसेवी संस्थाओं के लोग व्रतियों के स्वागत किया एवं प्रसाद वितरण में लगे रहे। वही जनप्रतिनिधियों ने माक्स का भी वितरण इस दौरान किया।

                गौरतलब है कि नगर में छठ पर्व की दशकों को से छठ पर्व की अद्भुत छटा देखने को मिलती है छठ पर्व को लेकर पूरा नगर चार दिनों तक भक्ति के सागर में डूब जाता है। नहाए खाए से प्रारंभ हुए इस पर्व के आज तीसरे दिन अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के लिए श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा स्थिति ऐसी हो गई कि रेस्ट हाउस रोड में बार-बार जाम की स्थिति निर्मित हो जा रही थी। छठ घाट में नवयुवक दुर्गा पूजा संघ पीपल चौक के द्वारा वर्षों से राम मंदिर घाट की सजावट एवं व्रतियों के सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए अन्य व्यवस्थाएं की जाती है वही नगर पंचायत के द्वारा भी साफ सफाई एवं नदी तक पहुंच मार्ग की भी व्यवस्था की गई।

कोरेना को लेकर देखी जागरूकता- एक और जहां श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा था वही कोरेना को लेकर जागरूकता भी लोगों में दिखी अधिकांश लोग माक्स का उपयोग किए थे वही विधायक एवं नगर पंचायत अध्यक्ष के द्वारा भी व्रतियों को प्रसाद वितरण के साथ-साथ माक्स का वितरण किया जा रहा था।

सैकड़ों छोटे दुकानदारों में मायूसी- एक ओर छठ व्रत को लेकर श्रद्धालुओं का उत्साह चरम पर था वही छोटे दुकानदार जो वर्ष भर छठ पर्व के इंतजार में रहते हैं कि वे नदी में दुकान लगाएंगे पर वे  प्रशासन के आदेश के बाद नहीं लगा पाए जिसकी स्पष्ट मायूसी उनके चेहरे पर देखी जा रही थी। सैकड़ों छोटे दुकानदार बहुत ही मायूस एवं अवसाद में दिखे।

दो प्रदेश को लोगों ने आमने-सामने किया छठ- कन्हर नदी की एक ओर छत्तीसगढ़ में हो रहे छठ व्रत की रौनक देखने को मिल रही थी तो वही नदी के दूसरी ओर झारखंड के ग्राम गोदरमाना की भी छठ की रौनक अद्भुत थी।

सुबह चिंताएं बड़ाई बाद में खुल गया मौसम- आज सुबह हो रही बारिश ने श्रद्धालुओं की चिंताएं बढ़ा दी थी परंतु दिन भर मौसम खुल गया वही 2 दिन पूर्व जो नदी का जलस्तर कुछ बड़ा था वह भी सामान्य हो गया था जिससे श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हुई।