नए श्रम कानून लाकर केंद्र सरकार श्रम सुरक्षा के ताबूत में आखिरी कील ठोकने जा रही है : सुनील सिंह

ARTICLE TOP AD

अनिल सोनी

बलरामपुर। जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सुनील सिंह ने केंद्र सरकार के नए श्रम कानून का विरोध किया है उन्होंने कहा की इस विधेयक के पास हो जाने से अब कामगारो के सारे अधिकार छीन जाएंगे श्रमिकों पर फैक्ट्री मालिकों को ज्यादती करने की खुली छूट मिल जाएगी ।
जिला कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सुनील सिंह ने इसे पूरी तरह “मजदूर-विरोधी” करार दिया है। उनका कहना है कि इन विधेयकों के जरिए केन्द्र सरकार का इरादा श्रम सुरक्षा के ताबूत में आखिरी कील ठोंकना है। ये श्रम कानून मजदूर विरोधी और पूंजीपतियों व उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने वाला हैं। पहले आर्थिक सुस्ती और फिर लॉकडाउन के बाद देश में श्रमिकों की हालत पहले से ही खराब है, ये श्रम कानून इन्हें और भी कमजोर बनाएंगे। कभी भी हायर और फायर की नीति के कारण कंपनियों को मनमानी करने का मौका मिलेगा। उन्होंने आगे कहा कि नए श्रम बिल के पास हो जाने से कंपनियों को मनमानी करने का अधिकार मिल जाएगा वो कभी भी अपनी कंपनी से किसी भी कर्मचारी को एक मिनट में निकाल सकती है. नए कानून के अनुसार कोई भी कंपनी, फैक्ट्री में काम करने वाले कर्मचारियों को सजा देने, निकालने, प्रमोशन में पक्षपात जैसे नियम पूरी तरह से कंपनी के हाथों में आ जाएगें जिससे कर्मचारियों का शोषण बढ़ेगा। इस बिल के बाद कंपनियां अपनी मनमर्जी करने के लिए आजाद हो जाएंगी. अभी मौजूदा समय में कंपनी कानून के तहत किसी भी कर्मचारी को एकदम से नहीं निकाल सकते. इसके लिए कंपनियों को किसी भी कर्मचारी को अचानक निकालने से पहले उसे सूचना देनी पड़ती थी और साथ ही कुछ महीनों की सैलरी देनी पड़ती है ताकि वो दूसरी नौकरी का इंतजाम कर सके। नए श्रम कानूनों से सरकार सिर्फ पूंजीपतियों का फायदा पहुंचाने के लिए अपने कदम आगे बढ़ा रही है,सरकार रोजी रोजगार मजदूर सब को तबाह करने का षड्यंत्र कर रही है।