छत्तीसगढ़ महामारी में स्वास्थ्य कर्मियों को नौकरी से निकालने वाला पहला राज्य बना – अनुराग सिंह देव

ARTICLE TOP AD

अंबिकापुर – कांग्रेस पार्टी ने घोषणा पत्र में संविदा कर्मियों को सरकार बनाने के 10 दिन के भीतर नियमित करने का वादा किया था कांग्रेस सरकार के वादे से मुकरने व मांग पूरी न होने पर एनएचएम स्वास्थ्य कर्मियों ने अपनी हड़ताल तेज कर दी है । जिसे लेकर सरकार ने सख्त तेवर दिखाते हुए संगठन के अध्यक्ष सहित कई लोगों को बर्खास्त कर दिया बर्खास्तगी व मांग पूरी ना होने पर प्रदेश भर में कर्मचारियों में आक्रोश है कर्मचारियों का कहना है कि जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होगी तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

भाजपा प्रदेश मंत्री अनुराग सिंह देव कहा कि कोरोना महामारी के कठिन दौर में जब जनता को स्वास्थ्य सेवाओं की नितांत आवश्यकता है तब छत्तीसगढ़ सरकार स्वास्थ्य कर्मियों को नौकरी से निकाल रही है सिंह देव ने कहा कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य बन गया है जहां कोरोना वारियर्स को बर्खास्त किया जा रहा है । प्रदेश महामंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने 10 दिनों में नियमितीकरण तो दूर 10,000 से ज्यादा लोगों को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों की बर्खास्तगी तत्काल वापस लेने की मांग की है ।

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के अध्यक्ष का कहना है कि सरकार के द्वारा नियमितीकरण के लिए कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है हम लोगों के द्वारा लंबे समय से पत्र लिखकर अधिकारियों से नियमितीकरण की मांग की जा रही है किंतु आज तक कोई भी कदम नहीं उठाया गया है जिस कारण से हमें आंदोलन का सहारा लेना पड़ा ।