यहां पढ़ें बलरामपुर के समाचार,कोविड-19 पाॅजीटिव पाये गये क्षेत्र को किया गया कंटेनमेंट जोन घोषित

ARTICLE TOP AD


संयुक्त जिला कार्यालय के सभा कक्ष में कलेक्टर ने ली समय-सीमा की बैठक, होम आइसोलेट मरीजों से निरंतर सम्पर्क में रहे स्वास्थ्य कर्मी-कलेक्टर 

अनिल सोनी
बलरामपुर।
नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण काल के दौरान जिले से संदिग्ध व्यक्तियों का सैंपल जांच हेतु प्रेषित किया गया था। जांच रिपोर्ट में व्यक्तियों के कोरोना पाॅजीटिव पाये जाने पर कोरोना वायरस के फैलाव को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्याम धावडे़ द्वारा संबंधित क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। जिसमें जिले के तहसील कुसमी के ग्राम पंचायत श्रीकोट 08 व्यक्ति की जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव आने पर उनके घर के 50 मीटर परिधि क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इसी प्रकार तहसील राजपुर के ग्राम पंचायत उलिया में 02 व्यक्तियों की जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव आने पर संक्रमित व्यक्तियों के निवास स्थान के 100 मीटर परिधि क्षेत्र, तहसील वाड्रफनगर के ग्राम पंचायत मानपुर में 05 व्यक्तियों के जांच रिपोर्ट पाॅजीटिव आने पर संक्रमित मरीजों के घर से 200 मीटर परिधि क्षेत्र, नगर पंचायत रामानुजगंज के वार्ड क्रमांक 01 में एक व्यक्ति तथा 12वीं बटालियन रामानुजगंज में 03 व्यक्तियों की जाॅच रिपोर्ट पाॅजीटिव आने पर संक्रमित मरीजों के घर के 100 मीटर परिधि क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। घोषित किये गए क्षेत्र में आम नागरिकों का आवागमन पूर्ण रूप से प्रतिबंधित रहेगा। घोषित कंटेनमेंट क्षेत्र के लिए पर्यवेक्षक हेतु संबंधित अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा उनके निर्देशन में तहसीलदार की भी नियुक्ति की गई है। कन्टेनमेंट जोन के अन्तर्गत समस्त दुकानें एवं अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आगामी आदेश पर्यन्त बंद रहेंगे। नोडल अधिकारी द्वारा घर पहुंच सेवा के माध्यम से अति आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति उचित दरों पर सुनिश्चित की जावेगी। सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्हीं भी कारणों से घर के बाहर निकलना प्रतिबंधित होगा।


संयुक्त जिला कार्यालय के सभा कक्ष में कलेक्टर ने ली समय-सीमा की बैठक, होम आइसोलेट मरीजों से निरंतर सम्पर्क में रहे स्वास्थ्य कर्मी-कलेक्टर 
बलरामपुर ।
कलेक्टर  श्याम धावड़े ने सयुंक्त जिला कार्यालय भवन के सभाकक्ष में आयोजित समय-सीमा की बैठक में महत्वपूर्ण योजनाओं एवं संचालित गतिविधियों की समीक्षा की। कलेक्टर ने समय-सीमा में लंबित प्रकरणों की चर्चा करते हुए जल्द निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने ट्रांजिट हाॅस्टल में रह रहे अधिकारी-कर्मचारियों को बकाया राशि का भुगतान जल्द से जल्द करने को कहा। कोविड-19 के लिए शासन से प्राप्त नए दिशा-निर्देशों के अनुरूप संक्रमितों के होम आइसोलेशन की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने बैठक में गिरदावरी, पीडीएस भण्डारण, नवीन राशन कार्ड, वन अधिकार पट्टा, पोषण माह, अंग्रेजी मीडियम स्कूल तथा स्थानीय पर्यटन के विषय में चर्चा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। मुख्य कार्यपालन अधिकारी हरीष एस. ने भी जिले में कोविड-19 के संक्रमित मरीजो एवं उपलब्ध बिस्तरों की संख्या के विषय जानकारी लेते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को गंभीरता के साथ कार्य करने को कहा।कलेक्टर श्याम धावड़े ने समय-सीमा की बैठक में कोविड-19 के मरीजों को होम आइसोलेट करने के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए जरूरी स्वास्थ्य सुविधाए उपलब्ध हो, ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों से निरंतर सम्पर्क में बने रहे तथा उन्हें किसी भी प्रकार की असुविधा होने पर तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाए। साथ ही होम आइसोलेट मरीज की सहायता के लिए स्थापित कन्ट्रोल रूम में ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों को भी गंभीरता के साथ कार्य करने के लिए निर्देशित करने को कहा। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन की पूरी व्यवस्था की निगरानी जिला स्तरीय नोडल अधिकारी करेंगे। कलेक्टर श्री धावड़े ने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को भी तीन-तीन अधिकारियों की टीम बनाकर कोरोना से जुड़े गतिविधियों की निगरानी करने को कहा। गठित टीम में शामिल अधिकारी कोविड केयर सेन्टर में मरीजों को भोजन, पानी, साफ-सफाई, स्वास्थ्य सुविधाएं सुचारू रूप से मिले यह सुनिश्चित करेंगे। उन्होंने गिरदावरी सत्यापन कार्य की समीक्षा करते हुए एन्ट्री कार्य को समय पर पूर्ण करने के निर्देश दिये। नवीन राशन कार्ड के लिए प्राप्त आवेदनों को परीक्षण उपरांत जारी करने को कहा। उन्होंने पीडीएस भण्डारण के संबंध में पूछा तथा 50 पीडीएस दुकानों के लिए गोदाम निर्माण हेतु प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान करने जानकारी दी एवं ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के अधिकारी को निर्माण कार्य शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये। कलेक्टर श्याम धावड़े ने वन अधिकार पट्टा प्रदाय करने हेतु पालन किये जाने वाले महत्वपूर्ण नियमों की जानकारी देते हुए इसके अनुरूप कार्यवाही करने को कहा। पोषण माह के सुचारू रूप से संचालन के लिए उन्होंने महिला एवं बाल विकास अधिकारी को निर्देशित किया एवं पंचायत वार नियुक्त नोडल अधिकारियों को उसका निरीक्षण करने को कहा। कलेक्टर ने स्थानीय पर्यटन को बढ़ावा देने के शासन के मंशानुरूप नोडल अधिकारियों को महत्वपूर्ण सांस्कृतिक, धार्मिक स्थलों की जानकारी संकलित कर सूचित करने को कहा। मुख्य कार्यपालन जिला पंचायत ने कोविड-19 के संबंध में अधिकारियों से चर्चा करते हुए टेस्टींग बढ़ाने तथा होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों से सत्त सम्पर्क मे रहें तथा मरीजों से बात कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी लें। ऐसा करने से मरीज मे संक्रमण की प्रभाव की जानकारी मिलने के साथ ही मरीज का आत्मविश्वास बढ़ता है तथा मानसिक रूप से सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि इनफ्लुएंजा इलनेस वाले व्यक्ति की जांच अनिवार्य रूप से करें। जिन क्षेत्रों मे संक्रमितों की संख्या अधिक है वहां कंटेनमेन्ट जोन क्लस्टर के रूप में बनाया जाए।बैठक में अपर कलेक्टर विजय कुमार कुजूर, सर्व अनुविभागीय अधिकारी राजस्व सहित सभी विभाग के विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।