पत्रवार्ता – खाद्य सुरक्षा पर ईमानदारी से होगा काम, शिकायत पर तत्काल करेंगे कार्रवाई’

ARTICLE TOP AD


अंबिकापुर। खाद्य विभाग से संबंधित अब ऑनलाइन दर्ज किया जाएगा। इसके लिए तैयारी की जा रही है। ३० दिन के अंदर वेबसाईट तैयार किया जाएगा। वहीं हर शासकीय दुकान में टॉल फ्री नंबर भी जारी किया जाएगा। उक्त बातें मंगलवार को प्रेस क्लब अंबिकापुर में आयोजित पत्रकार वार्ता में छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरुप्रीत सिंह बाबरा ने कहीं। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम संसद में पारित किया गया था। इस अधिनियम का उद्देश्य था कि ७५ प्रतिशत ग्रामीण आबादी व ५० प्रतिशत शहरी आबादी को खाद्य प्राप्त हो सके और जरूरतमंद परिवार को इसका लाभ मिल सके। वर्ष २०१६ में इस अधिनियम को सभी राज्यों में लागू करने की घोषणा की गई थी। इसके बावजूद भी प्रदेश के बीजेपी सरकार द्वारा इस अधिनियम को लागू नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार प्रदेश में मोबाइल बांटने व चुनाव में व्यस्त रही। प्रदेश में कांग्रेस के सरकार आने के बाद राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम पर काम करना शुरू कर दिया गया था। प्रदेश सरकार द्वारा मुझे बड़ी जि मेदारी दी गई है। इसमें खाद्य मंत्री अमरजीत भगत का विशेष योगदान रहा है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा को लेकर पूरी ईमानदारी से काम किया जाएगा। खाद्यान्न को लेकर कहीं पर गड़बड़ी मिलने पर तत्काल कार्रवई की जाएगी। पत्रकार वार्ता में मु य रूप से प्रवीण गुप्ता, डॉ. लालचंद यादव, दीपक मिश्रा, त्रिलोचन बाबरा, ओनिमेश सिन्हा, परवेज आलम, भतत गोयल, हरपाल बाबरा, अनिल तायल, विजय तायल सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

जारी किया जाएगा टॉल फ्री नंबर
खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरुप्रीत सिंह बाबरा ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि खाद्य विभाग का कालाबाजारी रोकने के लिए हर राशन दुकान में टॉल फ्री नंबर जारी किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य खाद्य आयोग का प्रचार-प्रसार की जरूरत है। ताकि इसके बारे में लोगों को पता चल सके और पीडि़त को कहां शिकायत करनी है इसकी जानकारी हो सके। इसके लिए ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने की व्यवस्था की जा रही है। ३० दिन के अंदर ऑनलाइन शिकायत दर्ज करना शुरू कर दिया जाएगा।

शिकायत पर तत्काल होगी कार्रवाई
गुरुप्रीत सिंह बाबारा ने कहा कि आम लोगों को खाद्य विभाग की हर योजना का लाभ पहुंचाना है। चाहे वह उचित मूल्य की दुकान से हो गया फिर आंगनबाड़ी चाहे वह स्वास्थ्य विभाग से हो। इसमें किसी प्रकार की उन्होंने कहा कि लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। अगर कोई भी अधिकारी लापरवाही बरतता है कार्रवाई की जाएगी।