वैश्विक महामारी के दौरान सादगी पूर्वक मनाया गया रक्षाबंधन

ARTICLE TOP AD

अंबिकापुर, । भाई-बहन का प्यार भरा त्यौहार रक्षाबंधन सादगी पूर्वक मनाया गया। बहनों ने अपने भाई को राखीं बांधी और बदले में भाईयों ने उनकी ताउम्र रक्षा करने का वचन दिया। रक्षाबंधन को लेकर खासकर बच्चों में ज्यादा उत्साह देखा गया। इस साल राखी खास इसलिए भी थी कि रक्षाबंधन श्रावस मास का आखिरी सोमवार को पड़ा था। ऐसे में इसका महत्व कई गुना ज्यादा बढ़ गया। पूरे दिन मुहूर्त रहने पर रक्षाबंधन में भाई और बहनों का एक दूसरे के घर जाने आने का सिलसिला बना रहा।

लॉकडाउन और कोरोना वैश्विक महामारी के कारण शहर में जरूर सन्नाटा पसरा रहा। लोग रक्षाबंधन का त्यौहार अपने-अपने घरों में ही मनाते हुए दिखे। वहीं दूसरी ओर इस बार केंद्रीय जेल में अन्य वर्षों की तरह रक्षाबंधन पर्व पर कतार में लगे भाई बहनों का नजारा देखने को नहीं मिला। पहले बहनें अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए जेलों में आती थी। इस बार इस तरह का कोई भी आयोजन नहीं किए जाने से जेल में निरुद्ध बंदी भाईयों को निराश होना पड़ा। रक्षाबंधन के अवसर पर जो बहने भाइयों के लिए डाक द्वारा राखी भेजी थी, उन्हें सैनिटाइजर करके बंदियों को दिया गया। इस बार जेल के बाहर राखी तथा अन्य सामान लेने के लिए कोई काउंटर नहीं बनाया गया था।