प्रधानपाठक की उदासीनता से अब तक बच्चो के घर नहीं पहुंचा सूखा राशन.. पालकों में रोष व्याप्त.. कार्रवाई की मांग..

ARTICLE TOP AD

महंगई(मिथलेश जायसवाल)- प्रेमनगर विकासखंड के ग्राम पंचायत महेशपुर में आदिवासी कन्या आश्रम शिक्षा विभाग द्वारा संचालित किया जा रहा है जिसमें छत्तीसगढ़ शासन की महत्वपूर्ण योजना मध्यान भोजन के अंतर्गत होने वाले सुखा राशन वितरण दूसरे चरण का 15 जुलाई से 30 जुलाई तक हो जाना था जो अभी तक सभी स्कूलों में वितरण हो चुका है परंतु कन्या आश्रम महेशपुर में संचालित हो रहे प्राथमिक शाला के प्रधान पाठक के द्वारा आज तक घर घर प्रत्येक बच्चे तक पहुंचने वाला सुखा राशन वितरण नहीं किया गया है बालकों द्वारा दिए जानकारी के अनुसार दूसरे चरण में होने वाली राशन वितरण अभी तक नहीं पहुंचाया गया है यह राशन 45 दिनों के लिए वितरण होना था यह सूखा राशन वितरण कोरोना कोविड-19 की वजह से हुए लॉकडाउन के दौरान छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार प्रत्येक बच्चे के घर पालक के समक्ष 45 दिनों का राशन पहुंचाना था सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब बच्चों के लिए यह महत्वपूर्ण योजना माना जा रहा है जबकि इस स्कूल के प्रधान पाठक की मनमानी रवैया के वजह से सारे नियम और कानून ताक में रखते हुए अभी तक सुखा राशन नहीं बांटा गया है जिससे ग्रामीण क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों व बच्चों के पलकों में भारी रोष व्याप्त है और सरकार से प्रधान पाठक के ऊपर कार्रवाई की मांग की जा रही है।

इस संबंध में प्रेमनगर विकासखंड शिक्षा अधिकारी का कहना है कि इस मामले में बात करता हूं अगर ऐसा है तो कार्रवाई करता हूं।