घटनाओं की पुनरावृत्ति होने पर जिम्मेदार पर होगी कार्रवाई – मंत्री अमरजीत

ARTICLE TOP AD

पीएचई के एसडीओ को कारण बताओ सूचना

अम्बिकापुर – छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री अमरजीत भगत की अध्यक्षता में आज जनपद पंचायत कार्यालय बतौली में जीवन दीप समिति की बैठक सम्पन्न हुआ।बैठक में बतौली विकासखंड के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में आवश्यक मरम्मत कार्य एवं उपकरणों की व्यवस्था हेतु 10 लाख रुपये के कार्यों का अनुमोदन किया गया।

बैठक को संबोधित करते हुए खाद्य मंत्री श्री भगत ने कहा कि जीवनदीप समिति को आज जिन कार्यों के लिए अनुमोदन दिया गया है उन्हें अगले बैठक से पहले पूरा कराएं। सभी कार्यो में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि बारिश के मौसम में मौसमी बीमारियों से बचाव के लिए दूरस्थ एवं जनजातीय क्षेत्र में लोगों पर ज्यादा फोकस करें। उल्टी-दस्त के लिए संवेदनशील गांव में स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास तथा राजस्व विभाग की संयुक्त टीम का गठन कर जनजागरूकता अभियान चलाएं। पहुंच विहिन क्षेत्र के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने कार्ययोजना बनाएं। किसी भी मरीज या प्रसूता को झेलेगी में ढोने की नौबत नही आना चाहिये। इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति होने पर जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी पर कार्रवाई होगी। स्वास्थ्य सुविधाओं में कोई लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी। उन्होंने कहा कि बतौली तहसील में 13 ग्राम पंचायतें उल्टी-दस्त के लिए संवेदनशील है। इन ग्राम पंचायतों में जागरूकत अभियान चलाएं। लोगो को बताएं की खुखड़ी, दूषित पानी, बासी भोजन न खाएं। पानी को उबालकर एवं छानकर पिएं। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग हैंड पंम्पो में क्लोरीनीकरण तेजी से कराएं। उन्होंने कहा कि विशेष पिछड़ी जनजाति समुदाय के लोगों को अस्पताल में भर्ती के लिए भर्ती शुल्क से छूट दिया जाए तथा राशन कार्ड या आधार कार्ड के आधार पर भर्ती कर लें। मंत्री श्री भगत ने कहा कि ग्राम पंचायतों में मनरेगा एवं पेंशन के भुगतान लंबित न रखें। जहां बोरिंग वाहन जा सकती है वहां जरूरत के अनुसार हैंडपम्प खनन कराएं। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण से बचाव कर लिए सभी जरूरी गाईड लाइन का पालन करें।
कलेक्टर श्री संजीव कुमार झा ने लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के एसडीओ से तहसील के हैंडपम्पों में क्लोरीनीकरण की जानकारी देने कहा तो एसडीओ द्वारा सही-सही जानकारी नही दी गई। इस पर कलेक्टर ने पीएचई के एसडीओ को कारण बताओ सूचना जारी करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने कहा कि संवेदनशील क्षेत्रों से मरीजों की जानकारी तत्काल प्राप्त करने के लिए व्हाटसएप ग्रुप बनाएं जिसमें संयुक्त टीम तत्काल सूचना प्रेषित कर सकें।

मरीजांे को वाहन उपलब्ध कराने पर दी जाएगी किराया- कलेक्टर ने कहा कि मरीजों को कभी-कभी 108 वाहन समय पर नही मिल पता है जिससे अस्पताल पहुंचने में समस्या हो जाती है। ऐसी स्थित से निपटने के लिए कोई भी अपना वाहन या अन्य की वाहन की व्यवस्था से मरीज को अस्पताल पहुंचाएं। जिला प्रशासन संबंधित वाहन मालिक को वाजिब किराए की व्यवस्था कराएगा । मरीजों को वाहन न मिलने पर अस्पताल न पहुंच पाने की शिकायत नहीं आनी चाहिए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से कहा कि विकासखण्ड के गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार करें और जिनका संभावित डिलीवरी 10 दिन बाद हो उन्हें पहले ही स्वास्थ्य केंद्रों में भर्ती कराएं। इसी प्रकार सचिव प्रत्येक ग्राम पंचायत में एक पंजी संधारित करें और उसमें अन्य प्रदेशों या जिले से आने वाले लोगों की जानकारी दर्ज करें ताकि उन्हें क्वारन्टीन सेन्टर में या होम क्वारेन्टाइन किया जा सके।

चलेगा हंडिया तोड़ अभियान- कलेक्टर ने कहा कि बारिश के मौसम में पुराने हंडिया के सेवन से उल्टी-दस्त या अन्य बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। इससे निपटने के लिए राजस्व विभाग एवं आबकारी विभाग संयुक्त टीम बनाकर हंडिया तोड़ने का अभियान चलाएं। यह अभियान पूरे बारिश के मौसम तक चलती रहनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्राम स्वास्थ्य समिति को भी सक्रिय करें और उसका बैठक नियमित रूप से संचालित करें। बैठक में पहुंचविहीन क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं पर विशेष रूप से चर्चा और योजना बनाएं।
बैठक में जिला पंचायत के सीईओ श्री कुलदीप शर्मा, जनपद अध्यक्ष श्रीमती सुगिया मिंज, उपाध्यक्ष श्री प्रदीप गुप्ता, एसडीएम सीतापुर सुश्री दीपिका नेताम सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।