सरगुजा में एक साथ मिले 17 कोरोना पॉजिटिव, 5 महिलाएं भी शामिल

ARTICLE TOP AD


17 पॉजिटिव मरीजों में से 4 अंबिकापुर तथा 13 बतौली ब्लॉक के अलग-अलग क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे थे


अंबिकापुर- सरगुजा जिला अभी 2 दिन पूर्व ही कोरोना मरीजों से पूरी तरह स्वस्थ हुआ था, इसी बीच शुक्रवार को एक साथ 17 कोरोना पॉजिटिव केस मिलने से प्रशासनिक व स्वास्थ्य महकमे में हडक़ंप मच गया है। इनमें 4 अंबिकापुर के अलग-अलग क्वारेंटाइन सेंटर में जबकि 13 बतौली ब्लॉके के अलग-अलग क्वारेंटाइन सेंटरों में ठहरे हुए थे। 17 पॉजिटिव मरीजों में 5 महिलाएं भी शामिल हैं। सभी अलग-अलग राज्यों से आए थे, जिन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्वारेंटाइन किया गया था। अंबिकापुर में पॉजिटिव मिला एक व्यक्ति पेड क्वारेंटाइन सेंटर में था। सरगुजा में 1 महीने के भी मिले सभी 24 मरीज स्वस्थ हो चुके थे लेकिन 17 मरीज मिलने के बाद यहां संक्रमितों की सं या अब 41 हो गई है। सभी को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
सरगुजा जिले में एक बार फिर कोरोना विस्फोट हुआ है। यहां शुक्रवार को एक साथ 17 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। इनमें अंबिकापुर के 4 तथा बतौली ब्लॉक के 13 मरीज शामिल हैं। अंबिकापुर में पाए गए पॉजिटिवों में एक महाराष्ट्र, 2 बनारस तथा 1 गाजीपुर से लौटा था। एक युवक होटल सिटी इन पेड क्वारेंटाइन सेंटर, 2 गंगापुर क्वारेंटाइन सेंटर तथा 1 व्यक्ति प्रयास बालक छात्रावास में क्वारेंटाइन था। कोरोना मरीजों की पुष्टि होते ही स्वास्थ्य अमला संबंधित सेंटरों मेंं पहुंचा और सभी को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया।
बतौली ब्लॉक में 13 पॉजिटिव
बतौली ब्लॉक में जिन 13 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है, उनमें 5 महिलाएं भी शामिल हैं। ये सभी घोघरा, चिपरकाया, महेशपुर, चिरगा व टिरंग स्थित क्वारेंटाइन सेंटर में ठहरे थे। 13 पॉजिटिवों में 4 झारखंड से आए थे, इनमें 3 महिला व एक पुरुष शामिल हैं। इसी प्रकार कोलकाता से आए पॉजिटिवों में 1 महिला व 2 पुरुष, तमिलनाडू से 2 पुुरुष, उत्तर प्रदेश से 1 पुरुष तथा केरला से आए 2 मरीजों में 1 महिला व एक पुरुष शामिल हैं।
17 के फेर में फंसा सरगुजा
सरगुजा जिला 17 के फेर में फंसा है। हालांकि 17 का आंकड़ा मात्र एक संयोग है। जिले में पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज 17 मई को मिला था। 17 जून को सरगुजा में एक महीने के दौरान मिले सभी 24 मरीज स्वस्थ हो चुके थे। इनमें अंबिकापुर के 7 तथा जिले के अन्य इलाकों के 17 मरीज थे। अब 2 दिन बाद सरगुजा में एक साथ फिर 17 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं।

७ मरीजों को किया गया डिस्चार्ज
अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज के कोविड-१९ अस्पतल से शनिवार को सात और मरीजों को स्वास्थ्य होने के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया। डिस्चार्ज किए गए सभी मरीज बलरामपुर जिले से हैं। जिसमें १ शंकरगढ़, १ चिलमा, १ घुटराडीह, १ शारदापुर, १ राननगर, १ पंडरी वाड्रफनगर व १ वाड्रफनगर से है। अपै्रल महीने से संचालित अंबिकापुर के कोविड-१९ अस्पताल में अब तक १२२ मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है।

बलरामपुर से आए २२ मरीज
बलरामपुर जिले में कोरोना विस्फोट रूकने का नाम नहीं ले रहा है। हर रोज कोरोना पॉजिटिव केस पाए जा रहे हैं। बलरामपुर जिसे से अब तक ९६ मरीजों को इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका है। जिसमें ३९ लोगों को स्वस्थ्य होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया है। शेष का इलाज ५७ लोगों का इलाज अभी चल रहा है। वहीं बलरामपुर जिला प्रशासन कोरोना को लेकर लापरवाह साबित हो रही है। शासन द्वारा पूर्व में ही हर जिले में कोरोना से निपटने के लिए कोविड-१९ अस्पताल का निर्माण कराने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद भी आज तक अस्पताल को पूर्ण नहीं किया गया। जबकि जिले में काफी सं या में कोरोना पॉजिटिव केस पाए जा रहे हैं। सभी मरीजों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर भेजा जा रहा है। इससे यहां मरीजों की सं या ज्यादा हो जा रही है। सूत्रों के अनुसार बलरामपुर कोविड-१९ अस्पताल में वायरिंग व अन्य काम बाकी होने के कारण शुरू नहीं किया जा सका है।