गाँववालों से गरीबों से मजदूरों से, किसानों से भाजपा इतनी नफरत क्यों करती हैं?

ARTICLE TOP AD

कांग्रेस पार्टी छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा ग्रामीण अस्पतालों के लिए 14.60 करोड़ ₹ की राशि जारी किए जाने का स्वागत करती हैं
मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रदेश के सभी 146 विकासखण्डों को 10-10 लाख रूपए की राशि प्रदान की गई है।

रायपुर । छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा ग्रामीण अस्पतालों के लिए राशि जारी किए जाने का स्वागत करते हुये कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों के अस्पतालों की व्यवस्थाएं और स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिये छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राशि जारी किए जाने पर भाजपा की आपत्ति समझ से परे है। भाजपा बताये कि वह गांव वालों से, गरीबों से, मजदूरों से, किसानों से इतनी नफरत क्यों करते हैं? यदि छत्तीसगढ़ के सुदूर ग्रामीण इलाकों में स्वास्थ्य सुविधायें और व्यवस्थाएं बेहतर हो रही है तो इसमें भाजपा को आपत्ति क्यों है? 15 वर्ष तक भाजपा शासन काल में अस्पतालों की जो दुर्दशा थी वो किसी से छिपी नहीं है। भाजपा ने यदि अपने शासनकाल में व्यवस्थाएं ठीक से की होती तो शायद आज करोना काल में यह राशि आज जारी करने की जरूरत ही नहीं पड़ती।

भारतीय जनता पार्टी द्वारा यह कहने पर कि कोरोना फैलने पर यह राशि जारी की जा रही है, कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने पूछा है कि गांव वालों के हित में कोई भी काम होता है तो भाजपा इतनी आपत्ति क्यों करती है ?मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के 146 विकासखण्डों में स्वास्थ्यसुविधाओं को और बेहतर बनाने के लिए हर ब्लाक को 10-10 लाख ₹ की राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष से जारी की है। कांग्रेस सरकार ने गांव के अस्पतालों के लिए 14.60 करोड़ की राशि जारी की है। इस राशि से अस्पतालों की व्यवस्थाएं और स्वास्थ्य सुविधाओं को और बेहतर बनाया जाएगा। पहले भी अस्पतालों को बेहतर बनाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने बेहतर काम किया है। गांव वालों के हित में ये बहुत बड़ी पहल है। भूपेश बघेल जी की सरकार, टी.एस. सिंहदेव जी की सरकार गांव वालों की हित की चिंता करती है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए 14 करोड़ 60 लाख रूपए का आबंटन जारी किया गया है। मुख्यमंत्री सहायता कोष से प्रदेश के सभी 146 विकासखण्डों को 10-10 लाख रूपए की राशि प्रदान की गई है। इस राशि से स्वास्थ्य विभाग की शासकीय अधोसंरचना को सुदृढ़ किया जाएगा। जीवनदीप समितियों के माध्यम से इस राशि का उपयोग किया जा सकेगा।