कोरोना संकट के समय सिरम जांच की भी सुविधा नहीं, निजी डायग्नोस्टिक के भरोसे मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन

ARTICLE TOP AD

० कोरोना मरीजों की कराई जाती है सिरम जांच, निजी डायग्नोस्टिक ने मना कर दिया तो सैंपल भेजना पड़ेगा बाहर


अंबिकापुर. मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सिरम इलेक्ट्रोलाइट्स जांच की सुविधा नहीं है। इस स्थिति में मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कोविड मरीजों की सिरम जांच कहां कराई जाए, इसकी समस्या कॉलेज प्रबंधन को सता रही है। संभाग के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सिरम जांच की व्यवस्था न होने पर अस्पताल प्रबंधन को बाहर के डायग्नोस्टिक सेंटर का दरवाजा खटखटाना पड़ सकता है। इस विषम परिस्थिति में अगर निजी डायग्नोस्टिक सेंटर कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सिरम इलेक्ट्रोलाइट्स जांच करने से मना कर देती है तो इस जांच के लिए भी सैंपल बाहर भेजना पड़ेगा।


कोरोना के संकट के दौर में कई ऐसे जरूरी जांच है, जिसकी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में सुविधा नहीं है। अस्पताल में काफी समय से सिरम इलेक्ट्रोलाइट्स जांच की व्यवस्था नहीं है। ऐसी स्थिति में मरीजों को बाहर निजी डायग्नोस्टिक सेंटर में जांच करानी पड़ती थी। इस कारण अस्पताल प्रबंधन को इसकी चिंता नहीं होती थी। अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सिरम जांच करानी पड़ रही है तो इसकी चिंता अस्पताल प्रबंधन को सताने लगी है। मेडिकल कॉलेज अस्पताल में कोविड अस्पताल में सरगंजा संभाग से ६ कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती हैं। इसमें एक कोरोना पॉजिटिव मरीज को सिरम जांच की आवश्यकता पड़ी। इसकी जानकारी अस्पताल प्रबंधन को दी गई तो पता चला कि इसकी व्यवस्था मेडिकल कॉलेज अस्पताल में है ही नहीं। चिकित्सक ने इसकी जानकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एमएस डॉ. पीएस सिसोदिया को दी तो उन्होंने बायोकेमेस्ट्री विभाग से संपर्क करने की बात कही।


निजी डायग्नोस्कि भी कर सकता है मना


सिरम इलेक्ट्रोलाइट्स जांच के लिए अस्पताल प्रबंधन निजी डायग्नोस्टिक सेंटर का सहारा लेने की बात कह रही है। वहीं अस्पताल प्रबंधन को यह भी चिंता सता रही है कि अगर कोरोना पॉजिटव मरीजों की सिरम जांच करने के लिए निजी डायग्नोस्टिक सेंटर ने भी मना कर दिया तो उन्हें सैंपल बाहर भेजना पड़ सकता है।


१५ दिन पूर्व मीटिंग भी हुई थी
सिरम इलेक्ट्रोलाइट्स जांच के लिए मेडिकल कॉलेज के बायोकैमेस्ट्री विभाग व अस्पताल के चिकित्सकों के बैठक भी हुई थी। एमएस डॉ. पीएस सिसोदिया ने जल्द से जल्द सिरम जांच की व्यवस्था करने की बात कही थी। इसके बाद भी कोई व्यवस्था नहीं की गई। इस स्थिति में सिरम जांच के लिए परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।